Sunday , January 16 2022
Breaking News
Home / BREAKING / केजरीवाल अकालियों के आगे घुटने ना टेकता तो अकाली नेता 6साल पहले ही होना था सलाखों के पीछे – मुख्यमंत्री

केजरीवाल अकालियों के आगे घुटने ना टेकता तो अकाली नेता 6साल पहले ही होना था सलाखों के पीछे – मुख्यमंत्री

धर्मकोट (मोगा), 27 दिसंबर 2021, (ओजी इंडियन ब्यूरो)-

पंजाब के मुख्यमंत्री स. चरणजीत सिंह चन्नी ने भरोसा दिया है कि शिरोमणि अकाली दल-भाजपा गठजोड़ सरकार द्वारा अपने 10 साल के कार्यकाल के दौरान पंजाब और पंजाबियों के साथ जो विश्वासघात किये हैं उनका प्रत्येक का हिसाब लिया जायेगा। राज्य के नौजवानों को नशों में धकेलना, बेअदबी की घटनाओं समेत राज्य को आर्थिक पक्ष से कंगाल करने जैसे मुद्दों का राज्य के लोग अकालियों से जवाब मांगते हैं। जिसकी शुरुआत पूर्व अकाली मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया के खि़लाफ़ केस दर्ज़ करने से हो गई है। वह आज स्थानीय दाना मंडी में पंजाब सरकार की तरफ से बेघरे लोगों को 5-5मरले के प्लाटों की सन्नदें वितरण करने के लिए आयोजित किये गए राज्य स्तरीय समागम को संबोधन कर रहे थे।

विशाल रैली को संबोधन करते हुये स. चन्नी ने कहा कि देश में तीन काले कृषि कानून लागू कराने के लिए शिरोमणि अकाली दल के नेता प्रधानमंत्री नरेन्दर मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार से मिले हुए थे। बीबी हरसिमरत कौर बादल उस मंत्रालय का हिस्सा थी जिस मंत्रालय ने यह कानून लागू किये थे। हरसिमरत को केंद्रीय मंत्रालय छोड़ने के लिए लोगों ख़ास कर पंजाबी किसानों के गुस्सा ने मजबूर किया। उन्होंने कहा कि इन तीन कृषि कानूनों के द्वारा देश की किसानी को ख़त्म करने की साजिश में अकाली दल और भाजपा बराबर के सांझेदार थे। उन्होंने कहा कि किसानों की जीत में हरेक वर्ग का योगदान है। यह देश की लड़ाई थी जो कि पंजाब के बहादुर किसानों ने आगे होकर लड़ी है और इसमें मिसाली जीत हासिल की है।

उन्होंने कहा कि दूसरी तरफ़ उनके नेतृत्व वाली पंजाब सरकार ने किसान आंदोलन के पहले दिन से ही शिद्दत से साथ दिया। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने सबसे पहले पंजाब विधान सभा में यह तीनों कानून रद्द किये। किसान जत्थेबंदियों के साथ मीटिंग बुला कर उनकी सभी माँगें मानी। इस आंदोलन के दौरान हम से बिछड़े करीब 750 किसानों के पारिवारिक सदस्यों को नौकरियाँ देने के साथ-साथ 5-5लाख रुपए की मुआवज़ा राशि दी जा रही है। उन्होंने किसानों की शहादतों के लिए शिरोमणि अकाली दल और भाजपा को बराबर के ज़िम्मेदार करारते हुये भरोसा दिया कि पंजाब सरकार इन परिवारों के साथ हमेशा कंधे से कंधा लगा कर खड़ी है।

पंजाब सरकार की तरफ से जनहित के लिए किये जा रही पहलकदमियों का विवरण लोगों के समक्ष रखते हुये बताया कि पंजाब सरकार ने राज्य के लोगों का सर्वपक्षीय विकास यकीनी बनाने के लिए सबसे पहले घरेलू बिजली के बिलों के 1500 करोड़ रुपए के बकाए माफ किये। बिजली का रेट 3रुपए प्रति यूनिट घटाया जिससे पंजाब के हरेक वर्ग के बिजली उपभोक्ताओं को लाभ मिलना शुरू हो गया है। अकाली सरकार के समय पर निजी सरमाएदारों को लाभ दिलाने के लिए किये गए बिजली समझौते रद्द किये। पीने वाले पानी के बकाया बिल माफ करने के साथ साथ गांवों में पानी की किराया दर 160 रुपए से और शहरों में 250 रुपए से घटा कर 50 रुपए प्रति महीना की।

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने जो ऐलान किये हैं वह पूरे भी किये हैं। आज पेट्रोल और डीज़ल में प्रति लीटर क्रमवार 10 और 5रुपए की कमी की गई है। किसी समय पर 22 रुपए से अधिक ज्यादा की कीमत पर मिलने वाला रेत आज साढ़े 5रुपए प्रति फुट मिल रहा है। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार की कोशिश है कि लोगों से जुड़े मुद्दे प्राथमिकता के आधार पर हल किये जाएं।

उन्होंने कहा कि पूर्व मंत्री और अकाली नेता बिक्रम सिंह मजीठिया कथित तौर पर नशे का एक ब्रैंड बन गया था, जिसको अब जल्द ही सलाखों के पीछे फेंका जायेगा। उन्होंने आप पार्टी के सुप्रीमो और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल पर अकालियों के आगे घुटने टेकने का इल्ज़ाम लगाते हुये कहा कि यदि अरविन्द केजरीवाल अकाली नेता मजीठिया से अदालत में हलफीया बयान देकर माफी न मांगता तो मजीठिया 6साल पहले ही सलाखों के पीछे होता। उन्होंने केजरीवाल को लोगों को झूठी गारंटियां देने से भी मना किया। उन्होंने कहा कि राज्य के लोगों ने अब मन बना लिया है कि राज्य के विकास की गति को चालू रखने के लिए पंजाब में फिर कांग्रेस पार्टी की सरकार लाई जायेगी। इस मौके पर उन्होंने विधान सभा हलका धर्मकोट के सर्वपक्षीय विकास के लिए 5करोड़ रुपए और ग्रांट देने का ऐलान किया और कहा कि हलके में पहले ही चल रहे विकास कामों को पहल के आधार पर पूरा किया जायेगा।

इससे पहले समागम को संबोधन करते हुये पंजाब के वित्त और योजना मंत्री स. मनप्रीत सिंह बादल ने पंजाबियों से अपील की कि वह आगामी विधान सभा मतदान में अपनी समझ से वोट का प्रयोग करें जिससे उनकी सरकार की तरफ से पंजाब को आर्थिक तौर पर फिर से आत्म-निर्भर करने के लिए शुरु की गई पहलकदमियों को बढ़ावा मिले। हलका विधायक स. सुखजीत सिंह काका लोहगड़ ने इस मौके पर हलके की माँगें मुख्यमंत्री के आगे रखीं और मुख्यमंत्री और पंजाब सरकार का धन्यवाद किया। इस मौके पर 5-5मरले के प्लाट प्राप्त करने वाले लाभार्थियों को मुख्यमंत्री ने सन्नदों का भी वितरण किया।

इस मौके पर उनके साथ लोक सभा मैंबर मुहम्मद सदीक, विधायक स. दर्शन सिंह बराड़, विधायक डा. हरजोत कमल, पूर्व मंत्री श्रीमती मालती थापर, मुख्यमंत्री के विशेष प्रमुख सचिव श्री राहुल तिवारी, डी.आई. जी. स. सुरजीत सिंह, डिप्टी कमिश्नर श्री हरीश नैयर, ज़िला पुलिस प्रमुख स. सुरिन्दरपाल सिंह मंड, ज़िला परिषद चेयरमैन स. इन्द्रजीत सिंह तलवंडी भंगेरिआं, ज़िला योजना बोर्ड के चेयरमैन स. इन्द्रजीत सिंह बीड़ चड़िक्क, नगर सुधार ट्रस्ट मोगा के चेयरमैन श्री विनोद बांसल, ज़िला कांग्रेस प्रधान स. कमलजीत सिंह बराड़ और बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

About admin

Check Also

कोरोना: 24 घंटे में के 2.68 लाख नए केस, 402 मौतें, संक्रमण दर में दो प्रतिशत का इजाफा

नई दिल्ली, 15 जनवरी 2022, (ओजी इंडियन ब्यूरो)-  भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *